क्या है इलेक्ट्रोनियम कॉइन [All About Electroneum Coin]

क्या है इलेक्ट्रोनियम कॉइन [All About Electroneum Coin]

बिटकॉइन के बारे मेंं तो आप लोग जान ही चुके हैं। कि बिटकॉइन एक डिजिटल करंसी है। लेकिन क्या आपको मालूम है कि एक और नया डिजिटल कॉइन मार्केट में है। जो बहुत जल्द और बहुत ज्यादा ही फेमस हो गया है। जिसे लेकर तरह- तरह की बातें भी की जा रही हैं। जी हां, हम यहां बात कर रहे हैं इलेक्ट्रोनियम कॉइन (Electroneum Coin) की। इलेक्ट्रोनियम कॉइन को लेकर दुनिया भर में काफी चर्चाएं हो रही हैं। लोग जानना चाहते हैं कि आखिरकार इलेक्ट्रोनियम कॉइन क्या है, ये कैसे काम करता है। इलेक्ट्रोनियम कॉइन सही है या फेक। ऐसे बहुत से सवाल हैं जो इलेक्ट्रोनियम कॉइन को लेकर लोगों के मन में हैं। तो अगर आपके मन में भी है इलेक्ट्रोनियम कॉइन को लेकर confusion तो आपकी इस प्रॉब्ल को दूर कर देंगे हम। क्योंकि आज हम आपको इस आर्टिकल में बताने जा रहे हैं इलेक्ट्रोनियम कॉइन से जुड़ी हर information.

All About Electroneum Coin

क्या  है  इलेक्ट्रोनियम  कॉइन (Kya hai Electroneum Coin)

 

अगर आप सरल शब्दों में समझना चाहते हैं तो इलेक्ट्रोनियम कॉइन पहली ब्रिटिश क्रिप्टो करंसी है। जी हां, इलेक्ट्रोनियम 1 पहली ब्रिटिश  क्रिप्टोकरंसी है। यानी की इसे भी आप अपने जेब में नहीं रख सकते है। इलेक्ट्रॉनियम ने बड़े ही तेजी से क्रिप्टोकरंसी की दुनिया में अपनी जगह बना ली। और इलेक्ट्रोनियम कॉइन सबसे बड़ा Initial Coin Offering यानी कि ICO है। इलेक्ट्रोनियम को मोबाइल गेमिंग और ऑनलाइन जुआ बाजारों के लिए डेवलप किया गया था। कहा जाता है कि ये दुनिया का most user friendly क्रिप्टोकरंसी है, जिसमें मोबाइल एप पर ही वॉलेट मैनेजमेंट और कॉइन माइनिंग की भी सुविधा हैं | इलेक्ट्रोनियम बिटकॉइन की ही तरह है, लेकिन इसकी कीमत अभी बिटकॉइन से काफी कम है, लेकिन बाजारों में ये भी चर्चा है कि आने वाले समय में इसकी कीमत बढ़ सकती है। इलेक्ट्रोनियम कॉइन खरीदने के लिए बिटकॉइन क्रिप्टोकरंसी की जरुरत होती है। शुरुआत में इसे खरीदने पर कंपनी की ओर से ऑफर भी दिए जा रहे थे। जिसमें अगर आप 100 इलेक्ट्रोनियम कॉइन खरीदते हैं तो इसके बाद आपको 20 % एक्सट्रा इलेक्ट्रोनियम कॉइन गिफ्ट में मिलता है। इसकी टीम काफी अच्छी है, उन्होंने कॉइन मार्केट में बहुत काम किया है। अगर आप चाहे तो सीधे इसकी वेबसाइट www.electroneum.com  पर जाकर भी इलेक्ट्रोनियम खरीद सकते हैं। या फिर आप इसे cryptopia.co.nz से भी एक्सचेंज कर सकते हैं।

Cryptopia में कैसे खरीदें इलेक्ट्रोनियम कॉइन (how to buy electroenuem coin)

 

इलेक्ट्रोनियम  कॉइन  Real  है  या  Fake ?

 

All About Electroneum Coin

पहले राउंड में जिस तेजी से इलेक्ट्रोनियम कॉइन की धूम मची और एक लिमिट के बाद इसके selling बंद हो गई। उसे देखकर बहुत से लोगों के मन में तो यही डर होने लगा कि क्या कहीं इलेक्ट्रोनियम कॉइन फेक तो नहीं। जिन्होंने इसे खरीदा, उसमें से की लोगों को तो अपना पैसा डूबने के भी आशंका लगने लगी। लेकिन जैसा कि हमने आपको बताया कि आज बहुत से लोग इसके बाद ट्रेड कर रहे हैं । और एक्सपर्ट भी इलेक्ट्रोनियम को लंबी रेस का घोड़ा मानते हैं। इन सब के अलावे इलेक्ट्रोनियम पर विश्वास करने की सबसे बड़ी वजह है Yahoo, जी हां याहू खुद में एक बहुत बड़ा ब्रांड है और अगर याहू इसके साथ है तो आप इस पर भरोसा तो जता ही सकते हैं। इतना ही नहीं इसके साथ कुछ और भी बड़े नामों के जुड़ने की भी खबर है। साथ ही खबर ये भी है कि इलेक्ट्रोनियम कुछ और प्लेटफॉर्म पर भी खुद को लॉन्च करने की तैयारी कर रहा है।

See More: Ways to Purchase Bitcoin {Hindi}

जो अगर आपको ये article पसंद आया हो तो share करने ना भूले hashtag #CryptoHindi के साथ | और जो अगर आप recent crypto currency update जानना चाहते है तो हमारे ब्लॉग को बुकमार्क कर लें| और जो अगर आपको कुछ भी पूछना या फिर आप कोई feedback देना चाहते है तो हमे कमेंट बॉक्स में बताएं| हम आपको जल्द ही रिप्लाई करेंगे |

Bitcoin Cash क्या है | आने वाले समय में दे सकता हैं आपको अच्छा रिटर्न ये कॉइन

Bitcoin Cash क्या है | आने वाले समय में दे सकता हैं आपको अच्छा रिटर्न ये कॉइन

क्रिप्टोकरेंसी की बात करें तो आज इसने Financial Market में अपनी मजबूत पकड़ बना ली है। दुनियाभर से बहुत से लोग इसमें invest कर रहे हैं। वहीं अब भारत में क्रिप्टोकरेंसी में निवेश करना थोड़ा मुश्किल हो रहा है, क्योंकि अभी हाल ही में देश के कई बड़े बैंकों ने बिटकॉइन से जुड़े अकाउंट्स को बंद कर दिया है। वहीं सरकार क्रिप्टोकरेंसी निवेशकों से टैक्स चुकाने के लिए भी कह रही है। क्रिप्टोकरेंसी ने आज पूरी दुनिया में धूम मचा रखी है। क्रिप्टोकरेंसी की बात हो और बिटकॉइन का जिक्र ना हो,ऐसा तो हो ही नहीं सकता। क्योंकि बिटकॉइन दुनिया की सबसे पहली क्रिप्टोकरेंसी है। बिटकॉइन के बारे में तो आपने हमारे पिछले आर्टिकल में जान लिया होगा, क्या हैं बिटकॉइन लेकिन बिटकॉइन से ही जुड़े बिटकॉइन कैश के बारे में बहुत कम ही लोग जानते हैं। तो आज हम आपको यहां Bitcoin Cash  के बारे में बताएंगे।

क्या है बिटकॉइन कैश  (Kya Hai Bitcoin Cash )

बिटकॉइन की तरह ही बिटकॉइन कैश भी एक डिजिटल करेंसी है। बिटकॉइन कैश, बिटकॉइन का ही Hard Fork है। इसे अगर सिंपल शब्दों में समझें तो ये बिटकॉइन का ही एक हिस्सा है। बिटकॉइन को दो हिस्सों में बांट दिया गया है, BTC और BCC । BTC यानी कि बिटकॉइन और BCC यानी कि बिटकॉइन कैश। मार्केट में बिटकॉइन कैश BCH के नाम से जाना जाता है। इसे 1 अगस्त साल 2017 को लॉच किया गया है। इसकी ऑफिशल वेबसाइट है  https://www.bitcoincash.org/. बिटकॉइन के ट्रांजेक्शन यानी कि ब्लॉक की साइज थी 1 MB, इस वजह से इसके ब्लॉकचेन के ट्रांजेक्शन की जो लिमिट थी वो थी 1 सेकेंड में 3 transaction । तो इसी वजह से इसके स्पीड में कमी आने लगी। जिसके बाद कस्टमर्स को काफी परेशानियां भी होने लगी। अब बड़े Transaction bitcoin  के through करना थोड़ा मुश्किल होने लगा, साथ ही इसमें बहुत ज्यादा वक्त भी लगने लगा। इसलिए बिटकॉइन के hard fork का फैसला लिया गया। जिसके बाद bitcoin cash बनाया गया। बिटकॉइन कैश का ब्लॉक साइज 8 MB है, जिससे बिटकॉइन ट्रांजेक्शन फास्ट होता है।

कहां- कहां की जा सकती है बिटकॉइन कैश की ट्रेडिंग

बिटकॉइन क्रिप्टकरेंसी की दुनिया का सबसे पहला डिजिकल कॉइन है । और इसने बहुत ही तेजी से मार्केट में अपनी एक अलग पहचान बनाई है। इसलिए आज बहुत से अनगिनत साइट्स हैं , , हालांकिजो इसकी ट्रेंडिंग की सुविधा देते हैं बिटकॉइन कैश भी बिटकॉइन का ही एक हिस्सा है।  इसलिए बहुत से साइट्स और एप हैं, जो बिटकॉइन कैश के ट्रेडिंग की facility उपलब्ध करवाते हैं। हम यहां आपको कुछ बड़े साइट्स का नाम बता रहें हैंं।

इनके अलावे और भी कई साइट्स हैं जो बिटकॉइन कैश की सुविधा देते हैं। अगर हम बिटकॉइन कैश के फायदे की बात करें तो ये आने वाले समय में BCC अच्छा रिटर्न देने वाला साबित हो सकता है, क्योंकि इसकी डिमांड बढ़ती ही जा रही है। लेकिन बिटकॉइन कैश के साथ सबसे बड़ी प्रॉब्लम है इसका बिटकॉइन के साथ जुड़ा होना। खैर ,अब ये तो मार्केट पर ही निर्भर करता है कि आने वाले वक्त में इसकी earning कैसी होगी। वहींं अगर भारत में बात की जाए तो बिटकॉइन की ही तरह यहां भी बिटकॉइन कैश की ट्रेडिंग की जा रही है। और तो और लोग इसमें long term के लिए भी invest कर रहे हैं। लेकिन  बिटकॉइन की ओर भारत सरकार की टेढ़ी नजरों को देखते हुए तो अब यही लग रहा है कि भारत मेंं बिटकॉइन investors को संभल कर रहने की जरूरत है।

See More: Ways to Purchase Bitcoin {Hindi}

जो अगर आपको ये article पसंद आया हो तो share करने ना भूले hashtag #CryptoHindi के साथ | और जो अगर आप recent crypto currency update जानना चाहते है तो हमारे ब्लॉग को बुकमार्क कर लें | और जो अगर आपको कुछ भी पूछना या फिर आप कोई feedback देना चाहते है तो हमे कमेंट बॉक्स में बताएं| हम आपको जल्द ही रिप्लाई करेंगे |

क्या बिटकॉइन मैथमेटिक्स पर आधारित है

क्या बिटकॉइन मैथमेटिक्स पर आधारित है

बिटकॉइन इलेक्ट्रॉनिक रूप से तैयार की गई एक डिजिटल करेंसी है। हाल ही कुछ दिनों में बिटकॉइन की बढती मांग और लोकप्रियता ने पूरी दुनियां का ध्यान आकर्षित किया है। जिस तरह एडवांस टेक्नोलॉजी के माध्यम से पेपल और पेटीएम से हम ऑनलाइन पेमेंट ट्रांजैक्सन करते हैं उसी तरह आज क्रिप्टो करेंसी भी बहुत ही लोकप्रिय हो रही है इसकी खास वजह बिटकॉइन ही है। बिटकॉइन दुनियां की पहली ऐसी करेंसी है जिसे दुनियां की अन्य मुद्राएँ जैसे रूपये या डॉलर आदि की तरह प्रिंट नहीं किया जा सकता है और जो किसी बैंकिंग सिस्टम से कण्ट्रोल नहीं है। यही कारण है कि बिटकॉइन में ट्रांजैक्सन करने पर आपको कोई फीस नहीं देनी पड़ती है। कुछ देशों में इसे काफी महत्व दिया जा रहा है तो कुछ देशों में इस पर सवाल उठ रहे हैं। इसकी वर्तमान संदेहात्मक स्थिति कई सवाल पैदा करती है जैसे कि बिटकॉइन का आधार क्या है? आइये गहराई से जानते हैं बिटकॉइन के बारे में –

बिटकॉइन का आधार

परंपरागत मुद्राएँ सोने या चाँदी पर आधारित होती हैं लेकिन बिटकॉइन के मामले ऐसा नहीं है। यह एक ऐसी मुद्रा है जिसे न प्रिंट किया जा सकता है न कण्ट्रोल किया जा सकता है। इसीलिए इसके आधार को लेकर सवाल उठना स्वाभाविक है। चर्चित डिजिटल मुद्रा बिटकॉइन की सप्लाई सीमित है इसे 21 मिलियन तक ही जारी किया जा सकता है और इस आंकड़े को साल 2140 तक पूरा होने की सम्भावना है। इसकी तय सीमा यह निश्चित करती है कि बिटकॉइन मैथमेटिक्स पर आधारित है। दुनिया भर में सॉफ्टवेयर प्रोग्राम का उपयोग करके बिटकॉइन को प्रोडयूस करने के लिए मैथमेटिकल फॉर्मूला का पालन करना होता है। यह फॉर्मूला स्वतंत्र रूप से उपलब्ध है,। अभी तक केवल 16.7 मिलियन बिटकॉइन ही जारी हो पाए हैं।

कैसे बनता है बिटकॉइन

बिटकॉइन “क्रिप्टो करेंसी” कॉन्‍सेप्‍ट का पहला क्रियान्वन है,  जिसे साल 1998 में वेई दाई द्वारा साइबरपंक्स मेलिंग लिस्ट पर पहली बार डिस्क्राइब किया गया था। साल 2009 में सातोशी नाकामोतो के क्रिप्टोग्राफी मेलिंग लिस्‍ट में पहले बिटकॉइन का स्पेसिफिकेशन और प्रूफ मिला था। लेकिन उन्‍होने अपने बारें में ज्‍यादा कुछ बाताए बिना ही छोड़ दिया। बिटकॉइन को प्रतियोगी और विकेंद्रीकरण प्रक्रिया द्वारा बनाया जाता है यही प्रक्रिया माईनिंग कही जाती है। माईनिंग प्राक्रिया के दौरान कंप्यूटरों का एक ग्लोबल नेटवर्क सॉफ्टवेर के इस्तेमाल से मैथमेटिक्स के जटिल एल्गोरिथम को सोल्व करने के कोशिश करते हैं।

कैसे होता है माइनिंग का काम

किसी विशेष हार्डवेयर के साथ सॉफ़्टवेयर को रन करके कोई भी बिटकॉइन माइनिंग कर सकता है। विशेष हार्डवेयर पर रन होने वाला माइनिंग सॉफ्टवेयर पीयर-टू-पीयर नेटवर्क के माध्यम से प्रसारित ट्रांजैक्‍शन को देखता है और इन लेनदेन की प्रक्रिया की पुष्टि करने के लिए उपयुक्त कार्य करता है। बिटकॉइन माइनर्स इसके लिए फीस लेते हैं, जो एक फिक्‍स फार्मूला पर आधारित होती हैं। साल भर तैयार होने वाले बिटकॉइन समय के साथ ऑटोमेटिकली आधे हो जाते हैं, यह तब तक चलता रहेगा जब तक 21 मिलियन बिटकॉइन जारी नहीं हो जाते।

बिटकॉइन की कीमत

बिटकॉइन की कीमत का निर्धारण वर्तमान निश्चित वॉल्यूम के अनुसार आपूर्ति और मांग के आधार पर किया जाता है। दुनियां भर में जैसे ही बिटकॉइन की मांग बढती है इसकी कीमत में उछाल आने लगता है और जैसे ही आपूर्ति होती है या मांग कम होती है तो इसकी कीमत नीचे गिर जाती है। अभी हाल के कुछ सालों के अन्दर इसकी कीमत में भारी उछाल आया है।